Business Loan In India : बिजनेस लोन कैसे प्राप्त करें जाने ?

Business Loan In India 2023 : बिजनेस लोन कैसे प्राप्त करें जाने ?

Business Loan In India : बिजनेस लोन एक वित्तीय उत्पाद है जो व्यवसायों को विभिन्न उद्देश्यों के लिए एक लोनदाता से धन उधार लेने की अनुमति देता है, जैसे व्यवसाय का विस्तार करना, उपकरण खरीदना या नकदी प्रवाह का प्रबंधन करना। बिजनेस लोन आम तौर पर बैंकों, वित्तीय संस्थानों और ऑनलाइन लोनदाताओं द्वारा प्रदान किए जाते हैं।

भारत में, कई प्रकार के बिज़नेस लोन उपलब्ध हैं, जिनमें शामिल हैं:

सावधि लोन (Term Loan): एक सावधि लोन एक निश्चित अवधि, निश्चित राशि का लोन होता है, जिसका उपयोग आम तौर पर लंबी अवधि के निवेश के लिए किया जाता है, जैसे कि उपकरण या अचल संपत्ति खरीदना।

कार्यशील पूंजी लोन (Working Capital Loan): एक कार्यशील पूंजी लोन एक अल्पकालिक लोन है जिसका उपयोग व्यवसाय के दिन-प्रतिदिन के संचालन, जैसे पेरोल, किराया और उपयोगिताओं को वित्त करने के लिए किया जाता है।

लाइन ऑफ़ क्रेडिट (line Of Credit): लाइन ऑफ़ क्रेडिट एक लचीला लोन है जो किसी व्यवसाय को आवश्यकतानुसार एक निश्चित सीमा तक धन उधार लेने की अनुमति देता है। व्यवसाय केवल उस राशि पर ब्याज का भुगतान करता है जो वह उधार लेता है और उसके पास लोन चुकाने और आवश्यकतानुसार फिर से उधार लेने का विकल्प होता है।

चालान वित्तपोषण (Invoice Financing) : इनवॉइस फाइनेंस एक व्यवसाय को अपने बकाया चालानों के आधार पर धन उधार लेने की अनुमति देता है। लोनदाता व्यवसाय को चालान मूल्य का एक प्रतिशत अग्रिम देता है और इनवॉइस का भुगतान होने पर पूरी राशि एकत्र करता है।

Business Loan In India के लिए आवेदन करने के लिए, आपको आम तौर पर लोनदाता को वित्तीय विवरण, टैक्स रिटर्न और व्यवसाय से संबंधित अन्य दस्तावेज़ प्रदान करने की आवश्यकता होगी। लोनदाता इस जानकारी का उपयोग आपके व्यवसाय की साख का आकलन करने और लोन की शर्तें निर्धारित करने के लिए करेगा, जैसे कि ब्याज दर और पुनर्भुगतान अनुसूची।

Business Loan Interest Rates in India ?

भारत में बिजनेस लोन (Business Loan In India) की विशेषताएं Kya hai ?

Business Loan In India की कुछ सामान्य विशेषताएं इस प्रकार हैं:

उद्देश्य: बिजनेस लोन का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जैसे व्यवसाय का विस्तार करना, उपकरण खरीदना, नकदी प्रवाह का प्रबंधन करना, या दिन-प्रतिदिन के कार्यों का वित्तपोषण करना।

पात्रता: बिजनेस लोन के लिए पात्र होने के लिए, आपको आमतौर पर भारत में एक पंजीकृत व्यवसाय इकाई होने की आवश्यकता होती है और आपके पास लोनदाता द्वारा निर्दिष्ट न्यूनतम टर्नओवर या निवल मूल्य होना चाहिए।

संपार्श्विक(कॉलेटरल): कुछ बिजनेस लोन के लिए लोन सुरक्षित करने के लिए संपत्ति या उपकरण जैसे संपार्श्विक की आवश्यकता हो सकती है।

ब्याज दर: बिजनेस लोन पर ब्याज दर आम तौर पर उधारकर्ता की साख और जोखिम प्रोफ़ाइल के ऋणदाता के आकलन पर आधारित होती है। ब्याज दर फिक्स्ड या फ्लोटिंग हो सकती है।

कार्यकाल: लोन अवधि वह समय है जिस पर लोन चुकाया जाना है। लोन के उद्देश्य के आधार पर व्यावसायिक ऋणों की अवधि अल्पकालिक या दीर्घकालिक हो सकती है।

चुकौती: लोनदाता और लोन की शर्तों के आधार पर बिजनेस लोन का एक निश्चित या लचीला पुनर्भुगतान कार्यक्रम हो सकता है। पुनर्भुगतान मासिक किश्तों या लोन अवधि के अंत में एकमुश्त भुगतान के माध्यम से किया जा सकता है।

पूर्व भुगतान: कुछ बिजनेस लोन पूर्व भुगतान की अनुमति दे सकते हैं, जिसका अर्थ है कि आप लोन अवधि समाप्त होने से पहले ऋण का भुगतान कर सकते हैं। पूर्व भुगतान शुल्क या अन्य शुल्कों के अधीन हो सकता है।

आवेदन करने से पहले बिजनेस लोन के नियमों और शर्तों पर ध्यान से विचार करना और आपकी आवश्यकताओं को पूरा करने वाले लोन को खोजने के लिए कई उधारदाताओं के प्रस्तावों की तुलना करना महत्वपूर्ण है।

Business Loan in India Eligibility Criteria Kya hai ?


Business Loan In India के लिए पात्र होने के लिए, आपको आमतौर पर निम्नलिखित आवश्यकताओं को पूरा करना होगा:

पंजीकृत व्यवसाय इकाई: आपको भारत में एक पंजीकृत व्यवसाय इकाई(Registered Business Unit) होना चाहिए, जैसे कि एकमात्र स्वामित्व, साझेदारी या निजी लिमिटेड कंपनी।

न्यूनतम टर्नओवर या नेट वर्थ: आपके व्यवसाय के टर्नओवर या नेट वर्थ के लिए उधारदाताओं की न्यूनतम आवश्यकताएं हो सकती हैं। इसका उपयोग आपके व्यवसाय की फाइनेंशियल कंडीशन एवं स्टेटस का वैल्यूएशन करने के लिए किया जाता है।

क्रेडिट इतिहास: लोनदाता आपके लोन आवेदन का मूल्यांकन करते समय आपके क्रेडिट खातों और भुगतान इतिहास के बारे में जानकारी सहित आपके व्यवसाय के क्रेडिट इतिहास पर विचार कर सकते हैं।

व्यवसाय योजना: आपको लोनदाता को एक विस्तृत व्यवसाय योजना प्रदान करने की आवश्यकता हो सकती है, जिसमें आपके व्यवसाय के लक्ष्यों, वित्तीय अनुमानों और लोन निधियों के उपयोग की रूपरेखा हो।

संपार्श्विक (कॉलेटरल): कुछ बिजनेस लोन के लिए लॉन्ग सुरक्षित करने के लिए संपत्ति या उपकरण जैसे संपार्श्विक की आवश्यकता हो सकती है।

आयु: बिजनेस लोन के लिए पात्र होने के लिए आपको न्यूनतम आयु आवश्यकताओं को पूरा करने की आवश्यकता हो सकती है।

आय: आपके लोन आवेदन का मूल्यांकन करते समय ऋणदाता आपकी व्यक्तिगत और व्यावसायिक आय पर विचार कर सकते हैं।

विभिन्न उधारदाताओं के साथ बिजनेस लोन के लिए पात्रता आवश्यकताओं की सावधानीपूर्वक समीक्षा करना और आपके आवेदन के समर्थन में सभी आवश्यक दस्तावेज प्रदान करना महत्वपूर्ण है। आपके लोन आवेदन को तैयार करने और अनुमोदन की संभावनाओं को बढ़ाने में आपकी मदद करने के लिए किसी वित्तीय सलाहकार या व्यावसायिक सलाहकार के साथ काम करना भी सहायक हो सकता है।

Business Loan in India Documents Requirements Kya hai ?

यहां कुछ सामान्य दस्तावेज़ दिए गए हैं जो आपको Business Loan In India के लिए आवेदन करते समय देने पड़ सकते हैं:

पहचान प्रमाण: इसमें पैन कार्ड, पासपोर्ट या मतदाता पहचान पत्र जैसे दस्तावेज शामिल हो सकते हैं।

एड्रेस प्रूफ: इसमें यूटिलिटी बिल, बैंक स्टेटमेंट या रेंट एग्रीमेंट जैसे दस्तावेज शामिल हो सकते हैं।

बिजनेस रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट: यह आपके बिजनेस रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट की कॉपी हो सकती है, जैसे पार्टनरशिप डीड या एसोसिएशन ऑफ आर्टिकल्स।

वित्तीय विवरण: आपको अपने व्यवसाय के वित्तीय स्वास्थ्य को प्रदर्शित करने के लिए वित्तीय विवरण, जैसे कि बैलेंस शीट और लाभ और हानि विवरण प्रदान करने की आवश्यकता हो सकती है।

टैक्स रिटर्न: आपको अपने व्यवसाय के वित्तीय प्रदर्शन को प्रदर्शित करने के लिए पिछले कुछ वर्षों के लिए अपने व्यवसाय के टैक्स रिटर्न की प्रतियां प्रदान करने की आवश्यकता हो सकती है।

व्यवसाय योजना: आपको लोनदाता को एक विस्तृत व्यवसाय योजना प्रदान करने की आवश्यकता हो सकती है, जिसमें आपके व्यवसाय के लक्ष्यों, वित्तीय अनुमानों और लोन निधियों के उपयोग की रूपरेखा हो।

संपार्श्विक(कॉलेटरल) दस्तावेज: यदि आपको लोन सुरक्षित करने के लिए संपार्श्विक (कॉलेटरल) प्रदान करने की आवश्यकता है, तो आपको संपत्ति के कार्यों या उपकरण चालान जैसे सहायक दस्तावेज प्रदान करने होंगे।

विभिन्न उधारदाताओं के साथ बिजनेस लोन के लिए दस्तावेज़ीकरण आवश्यकताओं की सावधानीपूर्वक समीक्षा करना और आपके आवेदन का समर्थन करने के लिए सभी आवश्यक दस्तावेज़ प्रदान करना महत्वपूर्ण है। आपके लोन आवेदन को तैयार करने और अनुमोदन की संभावनाओं को बढ़ाने में आपकी मदद करने के लिए किसी वित्तीय सलाहकार या व्यावसायिक सलाहकार के साथ काम करना भी सहायक हो सकता है।

Interest Rate on Business Loan in India Kya hai ?

Business Loan In India पर ब्याज दर आम तौर पर उधारकर्ता की साख और जोखिम प्रोफ़ाइल के लोनदाता के आकलन पर आधारित होती है। भारत में बिजनेस लोन के लिए ब्याज दरें लोनदाता और लोन की शर्तों के आधार पर प्रति वर्ष 10% से 30% तक हो सकती हैं।

बिजनेस लोन के लिए ब्याज दरें फिक्स्ड या फ्लोटिंग हो सकती हैं। एक निश्चित ब्याज दर का मतलब है कि लोन पर ब्याज दर पूरी लोन अवधि के दौरान समान रहती है। दूसरी ओर, फ्लोटिंग ब्याज दर का अर्थ है कि ऋण पर ब्याज दर एक बेंचमार्क ब्याज दर से बंधी है, जैसे कि भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) की नीति दर, और समय के साथ बदल सकती है।

भारत में Interest Rate on Business Loan in India को प्रभावित करने वाले कारकों में शामिल हैं:

साख योग्यता: आपके लोन पर ब्याज दर का निर्धारण करते समय लोनदाता आपके क्रेडिट खातों और भुगतान इतिहास के बारे में जानकारी सहित आपके व्यवसाय के क्रेडिट इतिहास पर विचार कर सकते हैं।

वित्तीय स्थिरता: आपके लोन पर ब्याज दर निर्धारित करते समय लोनदाता आपके व्यवसाय की वित्तीय स्थिरता पर विचार कर सकते हैं, जिसमें इसकी लाभप्रदता, नकदी प्रवाह और ऋण-से-आय अनुपात शामिल है।

संपार्श्विक(कॉलेटरल) : कुछ बिजनेस लोन के लिए लोन सुरक्षित करने के लिए संपत्ति या उपकरण जैसे संपार्श्विक (कॉलेटरल) की आवश्यकता हो सकती है। इन मामलों में, ब्याज दर कम हो सकती है, क्योंकि लोनदाता के पास डिफ़ॉल्ट के खिलाफ सुरक्षा का एक मजबूत स्तर होता है।

लोन उद्देश्य: लोन का उद्देश्य ब्याज दर को भी प्रभावित कर सकता है। उदाहरण के लिए, कार्यशील पूंजी के लिए उपयोग किए गए लोन की ब्याज दर दीर्घावधि निवेशों, जैसे उपकरण या अचल संपत्ति खरीदने के लिए उपयोग किए गए लोन की तुलना में अधिक हो सकती है।

यह महत्वपूर्ण है कि विभिन्न उधारदाताओं के प्रस्तावों की तुलना करें और यह निर्णय लेने से पहले प्रत्येक लोन के नियमों और शर्तों पर विचार करें कि कौन सा आपके व्यवसाय के लिए सबसे अच्छा है। आपको यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपको सबसे अच्छा सौदा मिल रहा है, ब्याज दर और लोन से जुड़े किसी भी शुल्क या शुल्क की सावधानीपूर्वक समीक्षा करनी चाहिए।

Business Loan in India Fees and Charges Kya hai ?

Business Loan In India पर विभिन्न प्रकार की फीस होती हैं, जो लोन की समग्र लागत में जोड़ सकते हैं। यहां कुछ सामान्य शुल्क दिए गए हैं जो भारत में बिजनेस लोन लेते समय आपके सामने आ सकते हैं:

प्रोसेसिंग शुल्क: प्रोसेसिंग शुल्क एक ऐसा शुल्क है जो लोनदाता द्वारा आपके लोन आवेदन के मूल्यांकन और प्रसंस्करण की लागत को कवर करने के लिए लगाया जाता है। यह शुल्क आम तौर पर लोन राशि का प्रतिशत होता है और गैर-वापसी योग्य होता है।

दस्तावेज़ीकरण शुल्क: दस्तावेज़ीकरण शुल्क एक शुल्क है जो लोनदाता द्वारा लोन दस्तावेज़ तैयार करने और बनाए रखने की लागत को कवर करने के लिए लगाया जाता है।

प्रीपेमेंट पेनल्टी: यदि आप लोन अवधि समाप्त होने से पहले लोन का भुगतान करते हैं तो कुछ बिजनेस लोन प्रीपेमेंट पेनल्टी चार्ज कर सकते हैं। इस दंड का उद्देश्य लोनदाता को उस ब्याज की हानि के लिए क्षतिपूर्ति करना है जो ऋण पूरी तरह से चुकाए जाने पर अर्जित होता।

देर से भुगतान शुल्क: यदि आप लोन भुगतान करने से चूक जाते हैं या देय तिथि के बाद भुगतान करते हैं, तो आपसे देर से भुगतान शुल्क लिया जा सकता है।

फोरक्लोजर शुल्क: यदि आप लोन अवधि के अंत से पहले अपने बिजनेस लोन को बंद करना चुनते हैं, तो ब्याज के नुकसान के लिए लोनदाता को क्षतिपूर्ति करने के लिए आपसे फोरक्लोजर शुल्क लिया जा सकता है।

आवेदन करने से पहले बिजनेस लोन से जुड़े शुल्कों और शुल्कों की सावधानीपूर्वक समीक्षा करना और आपकी आवश्यकताओं को पूरा करने वाले लोन को खोजने के लिए कई उधारदाताओं के प्रस्तावों की तुलना करना महत्वपूर्ण है। यह तय करते समय कि कौन सा लोन सबसे किफायती है, आपको किसी भी शुल्क और शुल्क सहित लोन की समग्र लागत पर भी विचार करना चाहिए।

Business Loan in India Provider Kaun Hai ?

कई प्रकार के संस्थान हैं जो Business Loan In India प्रदान करते हैं, जिनमें बैंक, वित्तीय संस्थान और ऑनलाइन लोनदाता शामिल हैं। भारत में कुछ सामान्य प्रकार के बिज़नेस लोन प्रदाता इस प्रकार हैं:

बैंक: बैंक पारंपरिक वित्तीय संस्थान हैं जो तमिल, वर्किंग कैपिटल लोन और लाइन ऑफ क्रेडिट सहित बिजनेस लोन की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करते हैं। बैंकों की सख्त पात्रता आवश्यकताएं हो सकती हैं और कुछ बिजनेस लोन के लिए कॉलेटरल की आवश्यकता हो सकती है।

वित्तीय संस्थान: वित्तीय संस्थान विशिष्ट लोनदाता होते हैं जो विशिष्ट उद्देश्यों के लिए बिजनेस लोन प्रदान करते हैं, जैसे कि उपकरण की खरीद के लिए वित्तपोषण या छोटे व्यवसायों का समर्थन करना। वित्तीय संस्थानों की अधिक लचीली पात्रता आवश्यकताएं हो सकती हैं और वे बैंकों की तुलना में अधिक विशिष्ट उत्पादों की पेशकश कर सकते हैं।

ऑनलाइन लोनदाता: ऑनलाइन लोनदाता डिजिटल प्लेटफॉर्म हैं जो ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया के माध्यम से बिजनेस लोन प्रदान करते हैं। ऑनलाइन उधारदाताओं की अधिक लचीली पात्रता आवश्यकताएं हो सकती हैं और पारंपरिक उधारदाताओं की तुलना में ऋण को तेजी से संसाधित करने में सक्षम हो सकते हैं। हालांकि, वे अधिक शुल्क और ब्याज दर भी ले सकते हैं।

यह महत्वपूर्ण है कि विभिन्न बिजनेस लोन प्रदाताओं के प्रस्तावों की सावधानीपूर्वक तुलना करें और यह तय करने से पहले प्रत्येक लोन के नियमों और शर्तों पर विचार करें कि कौन सा आपके व्यवसाय के लिए सबसे अच्छा है। बिजनेस लोन प्रदाता चुनते समय आपको ब्याज दर, शुल्क और शुल्क, पुनर्भुगतान अनुसूची और किसी भी कॉलेटरल आवश्यकताओं जैसे कारकों पर भी विचार करना चाहिए।

List of Business Loan in India Provider ?

यहां Business Loan In India प्रदाताओं की सूची दी गई है:

  • भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई)
  • एचडीएफसी बैंक
  • आईसीआईसीआई बैंक
  • ऐक्सिस बैंक
  • बैंक ऑफ बड़ौदा
  • केनरा बैंक
  • पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी)
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया
  • बैंक ऑफ इंडिया
  • सिटी बैंक.

यह एक विस्तृत सूची नहीं है, और भारत में वित्तीय संस्थानों, गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) और ऑनलाइन उधारदाताओं सहित कई अन्य बिजनेस लोन प्रदाता हैं। यह महत्वपूर्ण है कि विभिन्न बिजनेस लोन प्रदाताओं के प्रस्तावों की सावधानीपूर्वक तुलना करें और यह तय करने से पहले प्रत्येक लोन के नियमों और शर्तों पर विचार करें कि कौन सा आपके व्यवसाय के लिए सबसे अच्छा है। Business Loan In India प्रदाता चुनते समय आपको ब्याज दर, शुल्क और शुल्क, पुनर्भुगतान अनुसूची और किसी भी संपार्श्विक आवश्यकताओं जैसे कारकों पर भी विचार करना चाहिए।

FAQ- Business Loan in India.

Business Loan in India Interest rate क्या होता है ?

Business Loan In India के लिए ब्याज दर 10% से लेकर 30% के मध्य वार्षिक दर के आधार पर उपलब्ध कराया जाता है यह ब्याज दर आवेदक व्यक्तिगत एवं व्यवसायिक प्रोफाइल पर भी निर्भर करता है।

Business Loan in India कौन लेता है ?

Business Loan In India व्यवसाय का विस्तार करना, उपकरण खरीदना या नकदी प्रवाह का प्रबंधन करना के लिए लिया जाता है।